eCharcha.Com   Support eCharcha.Com. Click on sponsor ad to shop online!

Advertise Here

Go Back   eCharcha.Com > Current Affairs > Indian Politics

Notices

Indian Politics Our national time-pass!

Reply
 
Thread Tools Display Modes
  #16  
Old March 28th, 2014, 09:06 AM
Napolean Napolean is offline
Senior eCharchan
 
Join Date: Jul 2001
Posts: 8,958
Napolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond reputeNapolean has a reputation beyond repute
Re: Kejriwal: India’s biggest scam

http://timesofindia.indiatimes.com/c...w/32573211.cms
Reply With Quote
  #17  
Old April 3rd, 2014, 06:58 AM
sarv_shaktimaan's Avatar
sarv_shaktimaan sarv_shaktimaan is online now
Moderator
 
Join Date: Aug 2005
Location: satva aasmaan
Posts: 15,710
sarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond repute
Re: Kejriwal: India’s biggest scam

Now this is some more reason why we should be suspicious of the anti-national activities/interests of Arvind Kejriwal and AAP, and American foundations/govt is trying to manufacture public anger and change in system.

In this massive online world, you can never know who's real and who all have 'paid' agendas on their minds. There's already a trend being noticed where lot of Congressi supporters on Twitter come from poor European countries.

Brahma Chellaney, a leading strategic thinker and an analyst of international geostrategic trends, tweeted this -

Quote:
The revelation U.S. secretly funded a Cuban Twitter for regime change provides justification to governments elsewhere to muzzle social media
US government agency built 'Cuban Twitter' in failed social media attempt to spark regime change


Quote:
In an apparent throwback to the Cold War campaigns of disruption, disinformation and espionage, the US government spent $1.6m building a social media network with the aim of undermining the communist government in Cuba, it has emerged.

Documents obtained during an investigation by the Associated Press show that the project, which lasted more than two years and drew thousands of subscribers, was built with secret shell companies and was financed through foreign banks.

The United States Agency for International Development (USAID) was reportedly behind the project which saw the creation of a 'Cuban Twitter' dubbed "ZunZuneo" - slang for a Cuban hummingbird's tweet.

USAID were primarily responsible for the campaign and there was no involvement of intelligence services, but the details uncovered by the Associated Press would appear to bring into doubt USAID's longstanding claims that it does not conduct covert actions.

Users of "ZunZuneo" were entirely unaware of the involvement of the United States government agency and that American contractors were gathering personal data about them, in the hope that the information might be used someday for political purposes.

The project, which was started in 2009 after Washington-based Creative Associates International obtained a half-million Cuban cellphone numbers, has questionable legality under US law and has prompted concerns over clandestine government funded activity.

Documents and interviews show the US Agency went to extensive lengths to conceal its involvement.

They set up front companies overseas and routed money through a Cayman Islands bank to hide the money trail.

"On the face of it there are several aspects about this that are troubling," said Sen. Patrick Leahy, D-Vt. and chairman of the Appropriations Committee's State Department and foreign operations subcommittee.

"There is the risk to young, unsuspecting Cuban cellphone users who had no idea this was a US government-funded activity. There is the clandestine nature of the program that was not disclosed to the appropriations subcommittee with oversight responsibility."

"And there is the disturbing fact that it apparently activated shortly after Alan Gross, a USAID subcontractor who was sent to Cuba to help provide citizens access to the Internet, was arrested."

The service was established in 2009 when the Cuban government tightly controlled internet access and mobile phone communications were monitored.

Users were able to send updates to the site via SMS with said text messages being free of charge.

USAID contractors carefully designed the site to look like a real business using "mock ad banners" to "give it the appearance of a commercial enterprise”.

In multiple documents, USAID staff pointed out that text messaging had mobilized smart mobs and political uprisings in Moldova and the Philippines, among others.

In Iran, the USAID noted social media’s role following the disputed election of then President Mahmoud Ahmadinejad in June 2009 — and saw it as an important foreign policy tool.

At its height the service had at least 40,000 subscribers. USAID told the Associated Press that ZunZuneo stopped in September 2012 when a government grant ended.

The actions of USAID have parallels in the US government's project 'Lantern' – software that helps Chinese citizens get around the great firewall.

LINK

Last edited by sarv_shaktimaan; April 3rd, 2014 at 07:02 AM.
Reply With Quote
  #18  
Old April 4th, 2014, 06:10 AM
Dynamite's Avatar
Dynamite Dynamite is offline
Junior eCharchan
 
Join Date: Sep 2001
Posts: 193
Dynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond reputeDynamite has a reputation beyond repute
Re: Kejriwal: India’s biggest scam

I wonder such people who blame others call them anti national and so on are the person trying to occupying the highest post of the land., based on false and inflammatory propoganda. Why Congress is quiet on it. Mr. HARSHVARDHAN OF DELHI THE BJP NOMINEE FOR THE POST OF CHIEF MINISTER FORTUNATELY FOR THE PEOPLE OF DELHI HE WAS OPPOSITION LEADER LABELLED THE SAME CHARGES WITHOUT LOOKING INTO THE FACT THAT NARENDRA MODI HIMSELF AS CHIEF MINISTER OF GUJ IS RECEIVING DOLLARS FROM FORD FOUNDATION. SHAME FOR THE BJP. THE PEOPLE OF THE LAND THAT WE HAD TO LIVE WITH ONE OR THE OTHER HYPOCRATS ALL THESE YEARS. THANKS KEJRIWAL WE HAVE THE ALTERNATIVE TO congress and BJP.
__________________
When God was creating the human race, he lined up all the males on one side and all the females opposite. Then he asked: Which of your species would like to urinate standing up? Well, the males went crazy, shouting that they wanted to pee standing up. 'Fine', says God, 'Women get multiple orgasms'.
Reply With Quote
  #19  
Old April 4th, 2014, 06:28 AM
sarv_shaktimaan's Avatar
sarv_shaktimaan sarv_shaktimaan is online now
Moderator
 
Join Date: Aug 2005
Location: satva aasmaan
Posts: 15,710
sarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond repute
Re: Kejriwal: India’s biggest scam

Quote:
Originally Posted by Dynamite View Post
THANKS KEJRIWAL WE HAVE THE ALTERNATIVE TO congress and BJP.
in your dreamland..

btw, a state government receiving funds is altogether a different thing than a NGO with a hidden agenda and hidden finances. Something your uncooked head is unlikely to fathom.

Last edited by sarv_shaktimaan; April 4th, 2014 at 09:06 AM.
Reply With Quote
  #20  
Old April 4th, 2014, 08:24 AM
sgars's Avatar
sgars sgars is offline
2’
 
Join Date: Jan 2007
Location: Mid West
Posts: 8,239
sgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond reputesgars has a reputation beyond repute
Re: Kejriwal: India’s biggest scam

Quote:
Originally Posted by sarv_shaktimaan View Post
Now this is some more reason why we should be suspicious of the anti-national activities/interests of Arvind Kejriwal and AAP, and American foundations/govt is trying to manufacture public anger and change in system.

In this massive online world, you can never know who's real and who all have 'paid' agendas on their minds. There's already a trend being noticed where lot of Congressi supporters on Twitter come from poor European countries.

Brahma Chellaney, a leading strategic thinker and an analyst of international geostrategic trends, tweeted this -



US government agency built 'Cuban Twitter' in failed social media attempt to spark regime change
Cuba is an old enemy of US and there are still some sanctions. And this building unrest thing would true elsewhere too like in Syria, Libya, etc.

But coming to India, there is quite a bit of US investment here now. Plus, in South Asia, India might be the 'Least worst' for US to do Biz. Else you have China, Pak, etc.

30 years back, it might have been valid (everything was blamed on Foreign Hand, CIA like the Khalistan movement). And India was on other side then.


Now it is like this

(There will be another bearded guy in a couple of months but he could be doing the same after some more time.)

Coming back to your original chart, NR Narayanamurthy is shown as a member of Ford Foundation. He was in fact Praising Modi sometome back. The Ramon Magsasay awards also have Kiran Bedi (who is going to vote for Modi) as one of the awardees.

So, i would say that this scam's US connection could be limited to same left wing and peaceful guys who scuttled Modi's Visa.
__________________
This is quite a game, politics. There are no permanent enemies, and no permanent friends,only permanent interests. - Some Firang
Reply With Quote
  #21  
Old April 11th, 2014, 12:02 PM
another indian another indian is offline
Junior eCharchan
 
Join Date: Apr 2014
Posts: 113
another indian is a name known to allanother indian is a name known to allanother indian is a name known to allanother indian is a name known to allanother indian is a name known to allanother indian is a name known to all
see this

our mainstream poltical parties have recieved foriegn funding.this is much bigger scam.

http://www.thehindu.com/news/nationa...cle5844269.ece

our parties allowed the dow company to get away in bhopal gas tragedy(1984) case.and allowed its chief anderson to escape from india.but parties took funds from dow.

http://timesofindia.indiatimes.com/i...w/19870294.cms

for those having less info on bhopal gas tragedy, they can visit bhopal.org or bhopal.net.

bhopal.com seems to be owned by some friend of the dow company.
Reply With Quote
  #22  
Old April 17th, 2014, 12:54 AM
another indian another indian is offline
Junior eCharchan
 
Join Date: Apr 2014
Posts: 113
another indian is a name known to allanother indian is a name known to allanother indian is a name known to allanother indian is a name known to allanother indian is a name known to allanother indian is a name known to all
Re: Kejriwal: India’s biggest scam

If anyone suspects someone of being a CIA/ISI agent or receiving funds from it,then he/she should report to indian intelligence agencies such as RAW,etc.so that the RAW can secretly watch & investigate the intentions of such people whether they are agents of some other country or not.

why all such things are coming to light in the election year of 2014 only?the people who writing this could have easily have said this to RAW one year before & the RAW could have found out truth in 1 year, & indian public would not have to be put under such confusion.

even now it seems to me that no one has contacted intelligence agencies & these things are only in internet so to influence the voters.
Reply With Quote
  #23  
Old April 24th, 2014, 01:55 AM
raniraja's Avatar
raniraja raniraja is offline
The Y A W N E S T zzzz
 
Join Date: Jan 2001
Location: Surat
Posts: 9,845
raniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond reputeraniraja has a reputation beyond repute
Re: Kejriwal: India’s biggest scam

Just came across this article. Quoting a part of it; click the link for the full article :

Quote:
Arvind Kejriwal: A warrior or a Pawn?

By Know Kejriwal on July 31, 2013

अरविन्द केजरीवाल : एक योद्धा या एक मोहरा?


.................
जब केजरीवाल, अन्ना से अलग हुए और उन्होंने राजनैतिक पार्टी बनाने का फ़ैसला किया, उसी दिन से उन्होंने स्वयं को “इस ब्रह्माण्ड का एकमात्र ईमानदार व्यक्ति” बताने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखी। केजरीवाल के इस तथाकथित आंदोलन के लॉंच होने से पहले देश में दो बड़े-बड़े घोटालों पर चर्चा, बहस और विच्छेदन चल रहे थे, वह थे 2G घोटाला और कोयला घोटाला तथा थोरियम घोटाले की खबरें भी छन-छनकर मीडिया में आना शुरु हो चुकी थीं। लेकिन केजरीवाल ने अपनी आक्रामक छापामार मार्केटिंग तकनीक तथा चैनलों के TRP प्रेम को अपना “हथियार” बनाया। जिस तरह “कौन बनेगा करोड़पति” के अगले एपीसोड का प्रचार किया जाता है, उसी तरह केजरीवाल भी अपने साप्ताहिक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में “आज का खुलासा – आज का खुलासा” टाइप का प्रचार करने लगे।

केजरीवाल ने अपनी मुहिम की पहली बड़ी शुरुआत की, दिल्ली में बिजली दरों के खिलाफ़ आंदोलन करके। उन्होंनें एक दो जगह जाकर कटी हुई बिजली जोड़ने का नाटक किया, मुस्कुराए, फ़ोटो खिंचाए और चल दिए। लेकिन केजरीवाल यह नहीं बता पाए कि जब दिल्ली की जामा मस्जिद पर चार करोड़ से अधिक का बिजली बिल बकाया है तो उसके खिलाफ़ उन्होंने एक शब्द भी क्यों नहीं कहा? कहीं ऐसा तो नहीं कि भाजपा-संघ-भगवा से नफ़रत करने के क्रम में जब पिछले अप्रैल में वे बुखारी को मनाने उनके घर पहुँचे थे, तब इनके बीच कोई साँठगाँठ पनप गई? खैर… केजरीवाल का अगला हमला(?) हुआ सोनिया गाँधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा पर तथा DLF के आर्थिक कनेक्शनों की संदिग्धता दर्शाने और पोल खोलने से। रॉबर्ट वाड्रा पर उन्होंने “सिर्फ़ 300 करोड़” के घोटाले का आरोप मढ़ा, और यह सिद्ध करने की कोशिश की, कि हरियाणा सरकार, रॉबर्ट वाड्रा, DLF और कांग्रेस सबने आपसी मिलीभगत से दिल्ली-राजस्थान-हरियाणा में जमकर जमीनों की लूट की है, जिससे रॉबर्ट वाड्रा को रातोंरात करोड़ों रुपए का लाभ हुआ है। एक शानदार सनसनी फ़ैलाने के लिए तो केजरीवाल द्वारा रॉबर्ट वाड्रा का नाम लेना बहुत मुफ़ीद साबित हुआ, और मीडिया ने इस हाथोंहाथ लिया… एक सप्ताह तक इस घोटाले पर मगजपच्ची होती रही, चैनलों के डिबेट-रूम गर्मागर्म बहस से सराबोर होते रहे। तत्काल अगले सप्ताह, “बिग-बॉस” (सॉरी… केजरीवाल बॉस) का नया संस्करण मार्केट में आ गया, जिसमें उन्होंने सलमान खुर्शीद पर उनके ट्रस्ट द्वारा विकलांगों के लिए खरीदे जाने वाले उपकरणों में “71 लाख का महाघोटाला”(?), चैनलों पर परोस दिया। अगले दस दिन भी सलमान खुर्शीद की नाटकीय घोषणाओं, केजरीवाल की चुनौतियों, फ़िर सलमान खुर्शीद की “प्रत्युत्तर प्रेस-कॉन्फ़्रेंस” में बीत गया। एपिसोड के इस भाग में, “उत्तेजना”, “देख लूंगा”, “स्याही और खून”, टाइप के अति-नाटकीय ड्रामे पेश किए गए। अर्थात 1 लाख 76 हजार करोड़ के कोयला घोटाले से सारा फ़ोकस पहले 300 करोड़ के घोटाले और फ़िर 71 लाख के घोटाले तक लाकर सीमित कर दिया गया।

यहाँ पर मुख्य मुद्दा यह नहीं है कि रॉबर्ट वाड्रा या सलमान खुर्शीद ने घोटाला या भ्रष्टाचार किया या नहीं किया, सवाल यह है कि इस प्रकार के “मीडिया-ट्रायल” और TRP अंक बटोरू मार्केटिंग नीति से केजरीवाल ने, मुख्य मुद्दों से देश का ध्यान भटका दिया। सुशील शिंदे पहले ही कह चुके हैं कि जब जनता बोफ़ोर्स भूल गई तो बाकी के घोटाले भी भूल जाएगी, तब उनका विश्वास केजरीवाल ड्रामे पर ही था। जैसा कि बेनीप्रसाद वर्मा ने मजाक में कहा कि “सिर्फ़ 71 लाख” से क्या होता है? कोई केन्द्रीय मंत्री “इतने कम”(?) का घोटाला कर ही नहीं सकता, उसी प्रकार रियलिटी सौदों से जुड़ा हुआ कोई मामूली व्यक्ति भी मजाक-मजाक में ही बता सकता है कि वास्तव में रॉबर्ट वाड्रा भी 300 करोड़ जैसा “टुच्चा घोटाला” कर ही नहीं सकते, क्योंकि महानगर में रियलिटी क्षेत्र में बिजनेस करने वाला मझोला बिल्डर भी 300 करोड़ से ऊपर का ही आसामी होता है, फ़िर रॉबर्ट तो ठहरे “राष्ट्रीय दामाद”, विभिन्न अपुष्ट सूत्रों के अनुसार वाड्रा कम से कम 5 से 8 हजार करोड़ के मालिक हैं, लेकिन सिर्फ़ चैनलों पर एक सप्ताह की बहस हुई, चर्चा हुई, कांग्रेस ने कहा कि हम वाड्रा के खिलाफ़ जाँच नहीं करवाएंगे… और मामला खत्म, अगला मामला (यानी सलमान दबंग का) शुरु…।

इन दोनों मुद्दों पर मिली हुई TRP, प्रसिद्धि, कैमरों-माइक की चमक-दमक और VIP दर्जे ने अरविन्द केजरीवाल को एक गुब्बारे की तरह हवा में चढ़ा दिया। आम जनता के बीच चैनलों ने उनकी “राजा हरिश्चन्द्र” जैसी पहले से पेश की हुई छवि को, पॉलिश करके और चमकाना आरम्भ किया। इन शुरुआती हमलों के बाद चूंकि उन्हें भाजपा-कांग्रेस को एक समान दर्शाना था, इसलिए जल्दबाजी में उन्होंने नितिन गडकरी पर हमला बोल दिया। दस्तावेजों के अभाव, मुद्दों की अधूरी समझ तथा गडकरी को भ्रष्ट साबित करने की इस जल्दबाजी ने इस प्रेस कॉन्फ़्रेंस को “फ़्लॉप शो” बनाकर रख दिया। यहाँ तक कि भाजपा के विरोधियों को भी केजरीवाल द्वारा गडकरी के खिलाफ़ पेश किए गए “तथाकथित सबूतों” में भ्रष्टाचार कहाँ हुआ है, यह ढूँढ़ने में खासी मशक्कत करनी पड़ी। परन्तु अव्वल तो केजरीवाल जल्दबाजी में हैं और दूसरे उनका किसी संस्था पर भरोसा भी नहीं है, इसलिए न तो केजरीवाल ने रॉबर्ट वाड्रा, न ही सलमान खुर्शीद और न ही नितिन गडकरी* पर कोई FIR दर्ज करवाई, न कोई मुकदमा दायर किया और न ही सरकार से इन सबूतों(?) की किसी प्रकार की जाँच करने की माँग की। क्योंकि केजरीवाल का मकसद था, “सिर्फ़ हंगामा” खड़ा करके सस्ती लोकप्रियता बटोरना, और अपने “गुप्त” आकाओं के इशारे पर कांग्रेस-भाजपा को एक ही कठघरे में खड़ा करना। यहाँ पर भी चालबाजी यह कि जहाँ एक ओर गडकरी तो भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, वहीं दूसरी ओर रॉबर्ट वाड्रा तो कांग्रेस के सदस्य भी नहीं हैं… क्या केजरीवाल में सोनिया गाँधी के इलाज पर होने वाले खर्च, वायुसेना के विमानों की सवारी के बारे में सवाल पूछने की हिम्मत है? साफ़ बात है कि गडकरी पर हमला बोलकर उन्होंने अपना “छिपा हुआ मकसद” हासिल करने की नाकाम कोशिश की, जबकि राहुल गाँधी या अहमद पटेल को छुआ तक नहीं। ज्ञातव्य है कि प्रियंका गाँधी भी रॉबर्ट की कई कम्पनियों में हाल के दिनों तक एक निदेशक थीं।

बहरहाल, नितिन गडकरी के खिलाफ़ पेश किए गए “बोदे और बकवास किस्म के सबूतों” के तत्काल बाद जब भाजपा समर्थकों ने केजरीवाल के “अनन्य सहयोगियों”(?) के खिलाफ़ मोर्चा खोला और कई तथ्य पेश किए तब से केजरीवाल साहब बैकफ़ुट पर आ गए हैं। असल में केजरीवाल द्वारा गढ़ी गई “राजा हरिश्चन्द्र” की छवि को भुनाने के लिए अंजलि दमानिया और मयंक गाँधी जैसे लोग भी केजरीवाल के साथ जुड़ गए। गडकरी पर आरोप लगाने से पहले अंजली दमानिया को कोई नहीं जानता था, लेकिन जब खोजबीन की गई तो पाया गया कि यह मोहतरमा खुद ही जमीन के विवादास्पद सौदों में शामिल हैं। दमानिया ने कर्जत (मुम्बई) में आदिवासियों की जमीन झूठ बोलकर खरीदी और जब वहाँ बनने वाले बाँध की डूब में आने लगी तो उनकी जमीन के बदले दूसरे आदिवासियों की जमीन ली जाए ऐसा पत्र भी महाराष्ट्र सरकार को लिखा। जब इस अवैध जमीन पर कालोनी बसाने की योजना खटाई में पड़ गई तो मोहतरमा ने चारों ओर हाथ-पैर मारे, लेकिन जमीन नहीं बची… इसकी खुन्नस अंजली दमानिया ने नितिन गडकरी पर उतार दी। अरविन्द की टीम में ऐसे ही दूसरे संदिग्ध व्यक्ति हैं मयंक गाँधी, मुम्बई में इनके बारे में कई सच्चे-झूठे किस्से मशहूर हैं तथा “लोकग्रुप” के नाम से जो हाउसिंग सोसायटी है उसकी कई अनियमितताओं के पुलिंदे महाराष्ट्र सरकार के पास मौजूद हैं, साथ ही इन महोदय पर दूसरे बिल्डरों एवं जमीन मालिकों को कथित रूप से धमकाने के आरोप भी हैं। टीम के तीसरे प्रमुख सदस्य प्रशांत भूषण तो खैर शुरु से ही विवादों में हैं, चाहे वह कश्मीर की स्वायत्तता सम्बन्धी बयान हो, उत्तरप्रदेश में झूठी कीमत बताकर, सस्ती रजिस्ट्री करवाना हो, या हिमाचल प्रदेश में जमीन खरीदने का मामला हो… यह साहब भी “कथित हरिश्चन्द्र टीम” में शामिल होने लायक नहीं हैं…। अब बचे स्वयं श्री अरविन्द केजरीवाल, जिन पर फ़ोर्ड फ़ाउण्डेशन सहित अमेरिका के अन्य संगठनों से लाखों डॉलर चन्दा लेने का आरोप तो है ही, “इंडिया अगेन्स्ट करप्शन” के बैनर तले अन्ना आंदोलन के समय लिए गए पैसों के दुरुपयोग और उनके खुद के NGO, PCRF के लाभ के लिए उपयोग करने के आरोप भी हैं (हालांकि जब इसकी पोल खुल गई थी, तब वे चन्दे में एकत्रित हुए 2 करोड़ रुपए लेकर अन्ना को भेंट करने उनके गाँव पहुँच गए थे)। इन्हीं की टीम के एक पूर्व सदस्य वायपी सिंह ने केजरीवाल पर खुलेआम शरद पवार को बचाने का आरोप लगा डाला, और केजरीवाल सिर्फ़ खिसियाकर रह गए। इनकी वेबसाईट पर जब IAC का हिसाब-किताब देखा जाता है तब उसमें लाखों रुपए का खर्च “वेतन-भत्ते” के मद में डाला गया है, चकरा गए ना!!! जी हाँ, संभवतः वेतन-भत्ते लेकर किया जाने वाला यह अपने-आप में पहला ही “ई-आंदोलन” होगा।

जो कांग्रेस सरकार कानूनन अनुमति लेकर आमसभा और योग करने आए निहत्थे लोगों को रामलीला मैदान से क्रूरतापूर्ण पद्धति अपनाकर आधी रात को मार-मारकर भगा देती है, वही सरकार केजरीवाल को बड़े आराम से बिजली के तार जोड़ने और मुस्कराते हुए फ़ोटो खिंचाने की अनुमति दे देती है। जो सरकार बाबा रामदेव के खिलाफ़ अचानक सैकड़ों मामले दर्ज करवा देती है, वही सरकार केजरीवाल के NGO के खिलाफ़ एक सबूत भी नहीं ढूँढ पाती? जब किसी की गाड़ी चौराहे पर ट्रैफ़िक पुलिस द्वारा पकड़ी जाती है, तब सारे कागज़ात होते हुए भी वह इंस्पेक्टर ऐसा कोई न कोई पेंच उस गाड़ी में निकाल ही देता है कि चालान बन ही जाए, परन्तु जो सरकार हाथ-पाँव धोकर फ़िलहाल बाबा रामदेव के पीछे पड़ी है, उसे अरविन्द केजरीवाल के NGOs के खिलाफ़ एक भी सबूत नहीं मिला? यह कोई हैरत की बात नहीं “अंदरूनी मोहरावादी वोट गणित समझने” की बात है…

कुल मिलाकर, कहने का तात्पर्य यह है कि अरविन्द केजरीवाल सिर्फ़ TRP वाली नौटंकियाँ करने में माहिर हैं, भ्रष्टाचार से लड़ाई करने का न तो उनका कोई इरादा है और न ही इच्छाशक्ति। केजरीवाल को सिर्फ़ और सिर्फ़ इसलिए खड़ा किया गया है ताकि कांग्रेस के घोटालों से ध्यान भटकाया जा सके, भाजपा को भी कांग्रेस के ही समकक्ष खड़ा करते हुए, मतदाताओं में भ्रम पैदा किया जा सके, और इस भ्रम के कारण होने वाले 2-3 प्रतिशत वोटों के इधर-उधर होने पर इसका राजनैतिक फ़ायदा उठाया जा सके। टीवी चैनलों के लिए केजरीवाल एक रियलिटी टीवी शो की तरह हैं, गुजरात चुनाव और आगामी लोकसभा चुनाव से पहले ऐसे कई रियलिटी शो आने वाले हैं। न्यूज़ चैनलों को मुफ्त में काम करने वाला एक “गढ़ा गया हीरो” टाइप का नेता मिल गया है। यह ऐसा नेता है जो आमिर खान की तरह ही शो करेगा, कभी कभी जनता में लेकिन अधिकांशतः टीवी स्टूडियो या प्रेस कॉफ्रेस में ही मिलेगा।

अब अंत में सिर्फ़ एक ही सवाल पर विचार करेंगे तो समझ जाएंगे कि भ्रष्टाचार के मूल मुद्दों को पीछे धकेलने और भाजपा की बढ़त को रोकने के लिए मीडिया और कांग्रेस किस तरह से हाथ में हाथ मिलाकर चल रहे हैं… सवाल है कि पिछले कई सप्ताह से उमा भारती गंगा के प्रदूषण और गंगा नदी को बचाने के लिए एक विशाल यात्रा कर रही हैं, जो बिहार-उत्तरप्रदेश में गंगा किनारे के जिलों में चल रही है… कितने पाठक हैं जिन्होंने उमा भारती की इस यात्रा और गंगा से जुड़े मुद्दों पर मुख्य मीडिया में बड़ा भारी कवरेज देखा हो? केजरीवाल को मिलने वाले कवरेज और उमा भारती को मिलने वाले कवरेज, केजरीवाल और उमा भारती की ईमानदारी, तथा केजरीवाल और उमा भारती की संगठन क्षमता की तुलना कर लीजिए, आपके समक्ष “चित्र” स्पष्ट हो जाएगा कि वास्तव में केजरीवाल क्या “पहुँची हुई चीज़” हैं। यदि आप राजनैतिक गणित का आकलन करने के इच्छुक हैं तब तो आपके लिए यह आसान सा सवाल होगा कि, केजरीवाल की इस कथित मुहिम का लाभ किसे मिलेगा? यदि केजरीवाल को कुछ सीटें मिल जाती हैं तो किसका फ़ायदा होगा? क्या अन्ना के मंच से “भारत माता का चित्र हटवाने वाले” केजरीवाल कभी भाजपा के साथ आ सकते हैं? जब हमारा देश गठबंधन सरकारों के दौर में हैं तब केजरीवाल द्वारा 2-3 प्रतिशत वोटों को प्रभावित करने से क्या कांग्रेस के तीसरी बार सत्ता में आने का रास्ता साफ़ नहीं होगा??? अर्थात क्या आप अगले पाँच साल “UPA-3” को झेलने के लिए तैयार हैं? यदि नहीं… तो “मोहरों” से सावधान रहिए…

— सुरेश चिपलूनकर

http://www.knowarvindkejriwal.com/kn...ior-or-a-pawn/
__________________
Nietzsche (1887) : God is dead
God (1900) : Nietzsche is dead
-----------------------------------------
I will not be hurried and I will not be bullied

Reply With Quote
  #24  
Old August 22nd, 2015, 09:23 PM
Jagmohan Jagmohan is offline
Banned
 
Join Date: May 2014
Posts: 1,696
Jagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond reputeJagmohan has a reputation beyond repute
Re: Kejriwal: India’s biggest scam

ये मेसेज दिल्ली के पड़पडगंज से आया है एक
आदमी सुबह जैसे ही नहाने गया
नल के अन्दर से पहले 700 लीटर
पानी आया फिर फुस्स फुस्स की आवाज के
साथ 2 बाल्टी वाई- फाई से भर गई,
आदमी डर के पीछे हट गया की अब कही नल से
बिजली न आ जाए
इस चमत्कार से प्रभावित होकर उसने
केजरीवाल के नाम से 50 पर्चे छपवा कर बांटे
तो उसके नोकिया 1100 मोबाइल में भी wifi
के सिग्नल पकड़ने लगे....
एक औरत ने 200 पर्चे छपवाये तो बेसिक फोन में ट्विटर और व्हाट्सअप चलने लगा
एक व्यापारी ने इसे झूठ समझ कर पर्चे को फाड़ दिया तो उसके घर में ही रोमिंग लगने लगी
जिसे भी ये मेसेज मिले वो 24 घंटों के अंदर पर्चे छपवाकर बांटे या नेट से मेसेज फैलाये।
तुरंत फायदा मिलेगा।
मफलर को राष्ट्रीय वस्त्र घोषित किया जाए ��
और खाँसी को राष्ट्रीय बिमारी ।।


जरूरी नहीं है कि चार सप्ताह से अधिक समय तक खांसी आना


टीबी का ही संकेत हो ।


यह मुख्यमंत्री बनने का लक्षण भी हो सकता है।


So keep coughing��
Reply With Quote
  #25  
Old September 12th, 2015, 03:27 PM
sarv_shaktimaan's Avatar
sarv_shaktimaan sarv_shaktimaan is online now
Moderator
 
Join Date: Aug 2005
Location: satva aasmaan
Posts: 15,710
sarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond repute
Re: Kejriwal: India’s biggest scam

Reply With Quote
Reply

Bookmarks

Tags
ak420, coughing, jhadu, kejriwal, scam


Currently Active Users Viewing This Thread: 1 (0 members and 1 guests)
 
Thread Tools
Display Modes

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump

Similar Threads
Thread Thread Starter Forum Replies Last Post
Freedom of Speech thread update: Now Kejriwal : Media is sold out on Modi, will jail them: Kejriwal Origmos Indian Politics 11 May 13th, 2014 11:53 PM
Air India appoints 'biggest violator' as its operational head, pilots furious kalidas Taaza Khabar - Current news 10 December 20th, 2013 08:45 AM
India ,US operationalise biggest ever defence deal between them ashdoc Defense 1 August 25th, 2009 04:49 AM
India's Biggest ever scam ? Indian Taaza Khabar - Current news 1 September 10th, 2003 01:59 AM
Attention would be poets.. and chinglings scam scam scam alert GpeL SoapBox 11 November 18th, 2002 10:52 AM


All times are GMT -7. The time now is 06:41 PM.


Powered by vBulletin® Version 3.7.2
Copyright ©2000 - 2018, Jelsoft Enterprises Ltd.
Site Copyright © eCharcha.Com 2000-2012.